बीजेपी सांसद मनोज तिवारी और निशिकांत दुबे ने एयरपोर्ट पर सुरक्षा से किया खिलवाड़, केस दर्ज


बीजेपी सांसद मनोज तिवारी और निशिकांत दुबे ने एयरपोर्ट पर सुरक्षा से किया खिलवाड़, केस दर्ज

झारखंड में बीजेपी के सांसद मनोज तिवारी, निशिकांत दुबे सहित नौ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है (फाइल फोटो).

खास बातें

  • सुरक्षा मानकों के खिलाफ हवाई अड्डे के एटीसी रूम में प्रवेश किया
  • दबाव डालकर शाम साढ़े पांच बजे के बाद टेक ऑफ की इजाजत ली
  • देवघर एयरपोर्ट पर रात में टेक ऑफ और लैंडिंग की सुविधा नहीं है

पटना:

झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) ने बीजेपी (BJP) के सांसद सांसद मनोज तिवारी (Manoj Tiwari), सांसद निशिकांत दुबे (Nishikant Dubey), उनके दो बेटों और देवघर हवाई अड्डे (Deoghar airport) के डायरेक्टर सहित कुल नौ लोगों के खिलाफ कथित तौर पर देवघर से टेक-ऑफ के लिए एयर ट्रैफिक कंट्रोल (ATC) से जबरन मंजूरी लेने के मामले में एफआईआर दर्ज की है. यह घटना 31 अगस्त को हुई. देवघर हवाईअड्डे पर रात में उड़ानों के टेक-ऑफ या लैंडिंग की सुविधा नहीं है लेकिन इसके बावजूद सांसदों ने दबाव डाला. देवघर हवाई अड्डे के सुरक्षा प्रभारी डीएसपी सुमन आनन ने इसकी शिकायत की है. 

यह भी पढ़ें

सुरक्षा प्रभारी ने दर्ज कराई गई शिकायत में कहा है कि 31 अगस्त को शाम 05: 25 बजे सांसद और अन्य यात्री देवघर एयरपोर्ट पहुंचे. वे सब प्लेन के अंदर चले गए और प्लेन का गेट बंद कर दिया गया. कुछ देर बाद प्लेन का गेट खोलकर पायलट नीचे उतरा और एटीसी की तरफ जाने लगा. एटीसी कंट्रोल रूम में पायलट ने टेक ऑफ की इजाजत देने के लिए दबाव डाला. कुछ देर बाद दोनों सांसद और अन्य यात्री भी एटीसी कंट्रोल रूम में पहुंच गए. उन्होंने दबाव डाला और एटीसी का क्लियरेंस मिल गया.   

सुमन आनन की शिकायत पर एक सितंबर को कुंडा पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया. आरोप है कि दोनों बीजेपी सांसदों सहित अन्य व्यक्तियों ने एटीसी कक्ष में प्रवेश किया और सुरक्षा मापदंडों का उल्लंघन किया. उन्होंने अधिकारियों पर टेक-ऑफ करने के लिए दबाव डाला.

कुंडा थाने में दोनों सांसदों निशिकांत दुबे, मनोज तिवारी और एयरपोर्ट के डायरेक्टर सहित नौ लोगों पर आईपीसी की धारा 336, 447 और 448 के तहत केस दर्ज किया गया है. 

देवघर के डिप्टी कमिश्नर ने झारखंड के प्रधान सचिव को दो सितंबर को लिखे पत्र में पूरे मामले से अवगत कराया है. उन्होंने बताया है कि प्लेन में सवार होने के बाद पायलट विमान से बाहर आया और एटीसी की ओर चलने लगा.

उन्होंने पत्र में बताया है कि 31 अगस्त को स्थानीय सूर्यास्त का समय शाम 06.03 बजे था और हवाई सेवाएं शाम 05.30 बजे तक संचालित की जानी थीं. निशिकांत दुबे और अन्य एटीसी कक्ष के अंदर आ गए. सुरक्षा प्रभारी ने कहा कि पायलट और यात्री उड़ान भरने के लिए मंजूरी के लिए दबाव बना रहे थे. उन्हें इजाजत दे दी गई.

पुलिस ने चार्टड प्लेन के पायलट, गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे, सांसद मनोज तिवारी, कनिष्क कांत दुबे, माहिकांत दुबे, मुकेश पाठक, देवता पांडेय, पिंटू तिवारी और एयरपोर्ट के डायरेक्टर संदीप ढींगरा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.

दुमका पहुंचे बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने अंकिता के पिता का दर्द मीडिया से किया साझा, कही ये बात…



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.