महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव: 10 सीटों के लिए मतदान कल, बीजेपी और महा विकास आघाडी आमने-सामने


महाराष्ट्र विधान परिषद चुनाव: 10 सीटों के लिए मतदान कल, बीजेपी और महा विकास आघाडी आमने-सामने

दोनों तरफ से अपने सभी उम्मीदवारों को जिताने का दावा किया जा रहा है.

मुंबई:

महाराष्ट्र विधान परिषद की 10 सीटों के लिए सोमवार को चुनाव होना है. जिसे लेकर एक बार फिर से बीजेपी और महा विकास आघाडी की सरकार आमने सामने नज़र आ रही है. कुल 10 सीटों के लिए 11 उम्मीदवार मैदान में हैं. इसमें बीजेपी के 5 प्रत्याशी शामिल हैं, जबकि शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के दो-दो प्रत्याशी मैदान में हैं. इस बार आखिरी सीट के लिए बीजेपी के प्रसाद लाड़ और कांग्रेस के भाई जगताप आमने सामने हैं. जानकारों की मानें तो एक बार फिर निर्दलीय विधायक तय करेंगे कि इस सीट से कौन विजयी होगा.

यह भी पढ़ें

दरअसल, राज्यसभा चुनावों में महा विकास आघाडी को भरोसा था कि शिवसेना से छठीं सीट के लिए लड़ रहे संजय पवार चुनाव जीत जाएंगे, लेकिन कई निर्दलीय और छोटी पार्टी के विधायकों ने बीजेपी को मतदान दिया और बीजेपी के प्रत्याशी धनंजय महाडिक को जिताया. विधान परिषद के लिए गुप्त मतदान होता है. दोनों तरफ से अपने सभी उम्मीदवारों को जिताने का दावा किया जा रहा है. बीजेपी को राज्य में अपनी मजबूती को बरकरार रखने का मौका है. वहीं महा विकास आघाडी के पास राज्यसभा चुनाव में हुए नुकसान की भरपाई करने का मौका है.

बता दें कि बीजेपी की ओर से प्रवीण दरेकर, राम शिंदे, श्रीकांत भारतीय, उमा खापरे और प्रसाद लाड़ मैदान में हैं. बीजेपी चार सीटें जीत सकती हैं, जबकि पांचवीं सीट के लिए प्रसाद लाड़ और कांग्रेस के भाई जगताप के बीच टक्कर बताई जा रही है. वहीं शिवसेना की ओर से सचिन अहीर और अमाशा पडवी मैदान में हैं. शिवसेना के पास अपने दोनों प्रत्याशियों को जिताने के लिए वोट मौजूद हैं.

एनसीपी की बात करें तो पार्टी की तरफ से रामराजे नाइक निम्बालकर और एकनाथ खडसे मैदान में हैं. अपने दूसरे प्रत्याशी को जिताने के लिए एनसीपी को महज एक वोट चाहिए, जो उन्हें शिवसेना के अतिरिक्त वोट से मिल सकता है. कांग्रेस की ओर से चंद्रकांत हंडोरे और भाई जगताप मैदान में हैं. भाई जगताप की टक्कर बीजेपी के प्रसाद लाड़ से है.

दसवीं सीट को जीतने के लिए कांग्रेस के भाई जगताप को 8 वोट की जरूरत है, जबकि बीजेपी के प्रसाद लाड को करीब 20 वोटों की ज़रूरत है. छोटे दल और निर्दलीय विधायकों को मिलाकर कुल 29 वोट मौजूद हैं. इस चुनाव में भी अनिल देशमुख और नवाब मलिक को मतदान करने नहीं दिया गया है.

यह भी पढ़ें:

* “”महाराष्ट्र के मंत्री और शिवसेना नेता अनिल परब को ईडी ने बुधवार को तलब किया

* देवेंद्र फडणवीस भी हमारे पक्ष में मतदान करेंगे, अगर… : बोले शिवसेना के संजय राउत

* “‘3 वोट पर निर्णय लेने में 7 घंटे क्यों लगे? संजय राउत का आरोप- ‘राज्यसभा चुनाव में EC ने BJP का पक्ष लिया’

पीएम के महाराष्ट्र दौरे पर केंद्र और राज्य सरकार में मतभेद



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.