राकेश टिकैत पर स्याही फेंकने से नाराज BKU कार्यकर्ताओं ने ‘जेड प्लस सुरक्षा’ मुहैया कराने की मांग


राकेश टिकैत पर स्याही फेंकने से नाराज BKU कार्यकर्ताओं ने 'जेड प्लस सुरक्षा' मुहैया कराने की मांग

राकेश टिकैत पर सोमवार को शरारती तत्वों ने काली स्याही फेंकी थी.

गाजियाबाद, :

भारतीय किसान यूनियन (BKU) कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने मंगलवार को यहां जिला मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन करके बेंगलुरू में एक कार्यक्रम में राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) के चेहरे पर स्याही फेंकने की निंदा की.  साथ ही टिकैत को जेड प्लस सुरक्षा (Z+ Security) मुहैया कराने की मांग की.  इस बाबत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित एक ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट गंभीर सिंह को सौंपा गया, जिसमें कहा गया है कि घटना के वक्त वहां पुलिसकर्मी मौजूद थे, जिससे पता चलता है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने इस कृत्य को अंजाम दिया. 

यह भी पढ़ें

बीकेयू जिलाध्यक्ष बिजेंद्र सिंह ने कहा कि इसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए, ताकि सब कुछ स्पष्ट हो जाए कि उन्हें बीकेयू प्रवक्ता पर स्याही फेंकने के लिए किसने उकसाया और दोषी व्यक्तियों को कानून की कड़ी धाराओं के तहत दंडित किया जाना चाहिए, ताकि इस तरह की घटनाएं भविष्य में न हो सकें. उन्होंने चेतावनी दी कि अगर सरकार ने उपद्रवियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की तो बीकेयू पूरे देश में विरोध प्रदर्शन करेगा.  इस बीच सिटी मजिस्ट्रेट सिंह ने कहा कि ज्ञापन प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजा जाएगा . 

बेंगलुरु स्थित गांधी भवन में किसान संगठनों की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान सोमवार को शरारती तत्वों ने किसान नेता राकेश टिकैत पर सोमवार को काली स्याही फेंकी थी.  पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया था. इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए टिकैत ने कहा था कि उन पर हमला राज्य सरकार की मिलीभगत से हुआ है. 

टिकैत ने संवाददाताओं से कहा था, “इसके लिये स्थानीय पुलिस जिम्मेदार है और यह सरकार की मिलीभगत की वजह से हुआ. ” कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने मंगलवार को यहां जिला मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन करके बेंगलुरू में एक कार्यक्रम में राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के चेहरे पर स्याही फेंकने की निंदा की.  साथ ही टिकैत को जेड प्लस सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की. इस बाबत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित एक ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट गंभीर सिंह को सौंपा गया, जिसमें कहा गया है कि घटना के वक्त वहां पुलिसकर्मी मौजूद थे, जिससे पता चलता है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने इस कृत्य को अंजाम दिया. 

बीकेयू जिलाध्यक्ष बिजेंद्र सिंह ने कहा कि इसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए, ताकि सब कुछ स्पष्ट हो जाए कि उन्हें बीकेयू प्रवक्ता पर स्याही फेंकने के लिए किसने उकसाया और दोषी व्यक्तियों को कानून की कड़ी धाराओं के तहत दंडित किया जाना चाहिए, ताकि इस तरह की घटनाएं भविष्य में न हो सकें. उन्होंने चेतावनी दी कि अगर सरकार ने उपद्रवियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की तो बीकेयू पूरे देश में विरोध प्रदर्शन करेगा.  इस बीच सिटी मजिस्ट्रेट सिंह ने कहा कि ज्ञापन प्रधानमंत्री कार्यालय को भेजा जाएगा . 

बेंगलुरु स्थित गांधी भवन में किसान संगठनों की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान सोमवार को शरारती तत्वों ने किसान नेता राकेश टिकैत पर सोमवार को काली स्याही फेंकी थी.  पुलिस ने इस मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया था. इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए टिकैत ने कहा था कि उन पर हमला राज्य सरकार की मिलीभगत से हुआ है. टिकैत ने संवाददाताओं से कहा था, “इसके लिये स्थानीय पुलिस जिम्मेदार है और यह सरकार की मिलीभगत की वजह से हुआ. ” 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.